Tree is the basis of life and contributes significantly to human life – Minister Shri Lakhma.

Publish Date : 14/08/2019

नयापारा स्थित दलदली रोड मैदान में जिला स्तरीय वन महोत्सव कार्यक्रम संपन्न 
महासमुंद, 13 अगस्त 2019/हरियर छत्तीसगढ़ के तहत जिला स्तरीय वन महोत्सव का आयोजन जिला मुख्यालय महासमुंद वार्ड क्रमांक-11 दलदली रोड के मैदान में आज किया गया। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि वाणिज्यिक कर (आबकारी) वाणिज्य एवं उद्योग तथा जिले के प्रभारी मंत्री श्री कवासी लखमा शामिल हुए। इस अवसर पर अपने उद्बोधन में श्री लखमा ने कहा कि वृक्ष जीवन का आधार होता है, इसका मानव जीवन में महत्वपूर्ण योगदान है, वृक्षो से हमें इतनी बड़ी मात्रा में आक्सीजन प्राप्त होती है जो मानव के लिए उपयोगी है। उन्होंने कहा कि हमें स्वप्रेरणा से पौधरोपण के प्रति जागरूक होना चाहिए। जहां जंगल है वहां शुध्द हवा-पानी के अलावा वृक्षों कंदमूल, फलफूल अनेक प्रकार के औषधियां वनोपज के रूप में प्राप्त होती है। वनोपज के लिए प्रदेश के आदिवासी क्षेत्र बस्तर एवं सरगुजा अंचल काफी प्रसिध्द है। मंत्री श्री लखमा ने हरिहर महासमुंद वन महोत्सव का आयोजन वन विभाग द्वारा किए जाने पर प्रसंन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि हम सभी नागरिकों का नैतिक दायित्य है कि इन पौधों को संरक्षित एवं सुरक्षित रखें। उन्होंने वन महोत्सव के तहत 36 प्रजातियों के लगाए गए पौधे जैसे हर्रा, बहेड़ा, आंवला, बीजा, बेल, कपोक, करंज, कोसम, काला सिरस, काला जामुन, कदम, कचनार, कुसुम, महुआ, महुगनी, रिठा, शिशम, शिशु, बकायंन, भेलवा, बरगद, पीपल, पारस पीपल, गुलर, रक्त चन्दन, सफेद सीरस, चार, नीम, अंजन, अमरूद, अमलतास, अर्जुन, गुलर, आम एवं झालर प्रमुख प्रजातियां है। 
वन महोत्सव कार्यक्रम कीे अध्यक्षता करते हुए राज्यसभा सांसद श्रीमती छाया वर्मा ने अपने उद्बोधन में कहा कि वन विभाग द्वारा पौधे लगाने का कार्य किया जा रहा है। काफी सराहनीय है। प्रकृति का संतुलन बनाए रखने के लिए हम सबको वृक्ष लगाना चाहिए। उन्होंने वृक्ष के महत्व एवं परोपकार को प्रतिपादित किया और कहा कि पर्यावरण सुरक्षा और परोपकार भावना प्राणवायु प्रदान करने वाले वृक्ष की सुरक्षा करना हम सभी कर्तव्य है। उन्होंने यह भी कहा कि हर शासकीय विभाग अपने-अपने कार्यालयों के प्रांगण में पर्याप्त संख्या में वृक्ष लगाए। उन्होंने उपस्थित समुदाय से भी आग्रह किया कि वे अपने घरों में पेड़ लगाए। उपस्थित छात्रों से उन्होंने अपने घर, खेत या खाली स्थानों पर पौधे लगाने के लिए प्रेरित किया। इसके अलावा महासमुंद विधायक श्री विनोद चन्द्राकर ने कहा कि वृक्षारोपण करने के साथ-साथ उनकी रक्षा करना हम सभी का दायित्व है। पेड़ का महत्व मानव जीवन में सबसे अधिक है और यह मनुष्य के लिए अत्यंत आवश्यक ऑक्सीजन प्रदान करता है। उन्होंने कहा कि बड़ी संख्या में वृक्षारोपण करने से यह क्षेत्र हरा-भरा बनेगा, पर्याप्त मात्रा में आक्सीजन मिलेगा। उन्होंने सभी से आग्रह करते हुए कहा कि प्रकृति को सजाने, सुसज्जित करने के लिए पर्याप्त संख्या में पेड़ पौधे लगाकर उसकी समुचित रक्षा करें।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कलेक्टर श्री सुनील कुमार जैन ने कहा कि प्रकृति हमारे लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। प्रकृति के अविवेकपूर्ण दोहन के कारण मौसम में परिर्वतन हो रहा है, जिसका हम सभी को खामियाजा भुगतना पड़ेगा, इसलिए जरूरी है कि वृक्षारोपण अधिक से अधिक किया जाए। उन्होंने कहा कि मनुष्य को सबसे ज्यादा शांति और सुकून प्रकृति में मिलती है। उन्होंने सभी को प्रकृति की सुरक्षा के लिए जागरूक होकर पौधरोपण करने एवं उसकी सुरक्षा करने का आग्रह किया। वनमंडलाधिकारी श्री आलोक तिवारी ने बताया कि हरियर महासमुंद योजना के तहत़ यहां पर हेक्टेयर में साढे पांच हजार विभिन्न प्रजातियों के पौधों का रोपण किया गया है। जिले के सभी विभागों द्वारा भी पौधा रोपण किया जा रहा है। इसके लिए वन मंडल द्वारा निःशुल्क पौधा प्रदाय किया जा रहा है। महासमुंद शहर तथा सभी विकासखंड मुख्यालयों में वन विभाग द्वारा घर पहुंच सेवा उपलब्ध कराकर घर-घर में भी पौधा रोपण किया जा रहा है। इस अवसर पर बसना विधायक श्री देवेन्द्र बहादुर सिंह, खल्लारी विधायक श्री किस्मत लाल नंद, जनपद पंचायत महासमुंद के अध्यक्ष श्री धरमदास महिलांग, जिला पंचायत सदस्य श्री गोविन्द साहू, पुलिस अधीक्षक श्री संतोष कुमार सिंह, पार्षद श्री राजेन्द्र चन्द्राकर, श्री अरविन्द्र प्रहरे सहित जनप्रतिनिधियों के अलावा स्कूली छात्रगण, अधिकारीगण एवं ग्रामीणजन उपस्थित थे। 

वन महोत्सव कार्यक्रम